शनिवार, 11 अगस्त 2007

होती नहीं रिहाई......


उखड़ी- उखड़ी साँसें,
कदम कदम रूसवाई
अंग अंग को डसती अब,
साँप साँप तनहाई ।


तपते जलते राहों में,
कदम कदम पर धूल
बूढे बूढे पेड़ों पर
सूखे सूखे फूल ।


टुकड़े टुकड़े आशा की
फड़ फड़ करती हँसी,
ज्यों पिंजरे में कैद कोई
पँख तोड़ता पंछी ।


इसी पिंजरें में बँद है
मैं और मेरी तनहाई,
छटपटाते है हम दोनों
होती नहीं रिहाई ।।"

9 टिप्‍पणियां:

shaveta ने कहा…

bahut acha likha ha


har mod par kis kis ne kha ki me tere sath hoo
par me khud ke hi sath na reh payi me kya karoo
joothe wado , kasmo se darti hoo
mar mar ke ji bhi na payi me kya kroo

विपिन चौहान "मन" ने कहा…

आर्य मनु जी.....
सर्वप्रथम बधाई स्वीकार करें....रचना प्रभावशाली है...
उखड़ी- उखड़ी साँसें,
कदम कदम रूसवाई
अंग अंग को डसती अब,
साँप साँप तनहाई ।
यथार्थ का सुन्दर चित्रण किया है कवि ने...

तपते जलते राहों में,
कदम कदम पर धूल
बूढे बूढे पेड़ों पर
सूखे सूखे फूल ।



टुकड़े टुकड़े आशा की
फड़ फड़ करती हँसी,
ज्यों पिंजरे में कैद कोई
पँख तोड़ता पंछी ।



इसी पिंजरें में बँद है
मैं और मेरी तनहाई,
छटपटाते है हम दोनों
होती नहीं रिहाई ।।"

वास्तव में यदि एक शब्द में टिप्पणीं करने को कहा जाये तो मै कहूँगा..
"बे-मिसाल"

रंजू ने कहा…

bahut bahut sundar lagi aapki yah rachna manu ji .....

इसी पिंजरें में बँद है
मैं और मेरी तनहाई,
छटपटाते है हम दोनों
होती नहीं रिहाई ।।"

yah lines bahut apne dil ke kareeb lagi ..likhte rahe .

vishal ने कहा…

manu ji,
har baar sunday ka besbri se intjaar hota hai, aapke blog par ek nayi kavita jo janm leti hai is din....
is baar bhi aapne bilkul bhi nirash nahi kiya.kavita man ko choo gayi.
ye lines to bahut pasand aayi-
इसी पिंजरें में बँद है
मैं और मेरी तनहाई,
छटपटाते है हम दोनों
होती नहीं रिहाई ।।"

ek baat poochna chah raha tha, anyatha mat lena.
aap humesha pyar aur virah par hi kalam chalate hai?
jitni bhi kavitaye maine aapki padhi, sabhi isi tarah ki thi, aapki gaon vali kavita ka aadhar bhi yahi tha...
vajah jaan sakta hu????
aapke acche bhavishya ki kamna karta hu,
vishal kurmi.

Manish Tiwari ने कहा…

Manu ji ,
bahut hi sunder kavita likhi hai aapne .

Bhavnay aur chitran la-jabab hai.

badhaiya aur shubkamnay sweekar kare.

shalini agrawal ने कहा…

होती नहीं रिहाई......
वह, मन सताये.........

manu maine aap ki dono rachanaye padi hai per tippani nahi di kyoki jo mai mahsoos karti hoo wo shabd nahi ban paate .......
aap ki her kavite mujhse judi hoti hai oor gayte oor tukbandi iski vishesh pahchan hai

pata hai aap ki rachanaye aap ki pahchan hai

Shekhar ने कहा…

Aati Sunder....issy behtar shabd nahi mil rahy..

shrdh ने कहा…

Manu ji
aapki is rachna main bahut hi naya rang hai tanhayi ko batae ka naya andaaj
bhaut achha laga aapko padhna

rachna ne apne pravhav bhaut achha chodha hai

raghav ने कहा…

shabd ka dard, shabd main dard
andar kuch saalta hai,
dard dariya ho jata
tan sager
aakhir main ye
pinjara bhi
tut-ta hai,
ek naya dard ke
safer k liye.
sunder rachna hai.

laxman raghav