रविवार, 10 जून 2007


दिल जल रहा है, बस धुआँ नही है,
इस दर्द का हमदर्द यहाँ नही है .
मोम की तरह पिघल रहा हूँ दोस्त,
कुछ समय मे तुम कहोगे, मेरा....
................... निशाँ नही है.........

1 टिप्पणी:

Shantanu ने कहा…

aap hote to kya nahi hota, shama hoti dhua nahi hota.
koi hame bhi dekh kar hansta
koi hamse khafa nahi hota
dil ke taaro se baat kar lete
sher har gumzada nahi hota
aap hote to khwab sach hote
aur wo sach youn bura nahi hota..