रविवार, 10 जून 2007

सिर्फ आँसू है॰॰॰॰॰




"न जी करता है मुस्कुराने को,
न लब करते है थरथराने को ।
चोट कुछ ऍसी दी है ज़माने ने कि,
आग लगाने का जी करता है ज़माने को।
ठोकरो पर ज़िन्दगी गुज़रती रही,
अपना साथी बना लिया, मैखाने को।
दर्द ही दर्द मेरी बोतल मे है,
क्यूँ मै दोष दूँ किसी पैमाने को।
रास्ते खो गये, मंज़िलें दूर है,
सिर्फ आँसू है आज बरसाने को ।
जो भी आये थे, मेरे हमदर्द बनके,
सारे धोखे थे, प्यार था दिखाने को ।
ये शहर है सारा अजनबियों का,
कौन है यहाँ अब आज़माने को ।
जलता बुझता रहा, बुझता जलता रहा,
कौन आया लगी दिल की बुझाने को ।
चल दे मनु कहीं बेगाना बनके,
आब तेरी नही यहाँ दिखाने को ।"

4 टिप्‍पणियां:

Shantanu ने कहा…

waqt ke tewar nazar aane lage;
dost mere shahar se jaane lage;
baad muddat ke mili thi ik lhushi;
hansne lage to ashq bhi aane lage;
sach kaha to log uthkar chal diye;
khushnuma unko to afsane lage;
ham wo mani mazhabo ke bhool baithe hai;
paas maszid ke jo pahunche to wo maikhane lage!!

Shantanu ने कहा…

kavita main itna dard utarna bhi ek kala hi kahunga .waise ab ye dard,dard nahi raha balki ye pahunch chuka hai dard ke shikhar pe jise nafrat ka naam dena koi galti nahi hogi!!

fir bhi aasha karunga ki isi saawan main aapki zindagi main bhi bahar aa jaye!!

sunita (shanoo) ने कहा…

क्यों भाइ इतने गिले-शिकवे किस लिये...जिंदगी जिंदादिली का नाम है इतनी मायूसी मगर ठीक नही...



शानू

raghav ने कहा…

jine ki hai lalsa,jiddi mera subav,
jeevan ghari jheel hai,mai kagaj ki nav.
kab tak kare manotia,kab tak phool chadaye,vishvaso ke ye resmi dage tut na jaye................
na chatkta vishvas to bhala aansu kaise jnamte???